सँकल्पाँजलि- सुषमा स्वराज जी को अर्पित

भारतीय महिलाओं की आदर्श कही जाने वाली माननीय पूर्व विदेश मंत्री सुषमा जी के निधन का समाचार सुन कर एक बार तो स्तब्ध रह गए।जैसे ही भारत मे वर्षो इंतजार करने के बाद एक खुशी धारा 370 ,35A के समाप्त होने की ख़ुशी में हरेक भारतीय जश्न में डूबा था कि अचानक माननीया के निधन के समाचार प्राप्त हुआ।

ऐसे लगा वर्षों से सुषमा जी इस फैसले के इंतजार में जी रहे थे ओर वो इस खुशी के साथ हम सब को छोड़ कर चल दिये।माननीया हमेशा हमारी प्रेरणा स्तोत्र रही हैं।उनका सादगी पुर्ण जीवन ,व्यतित्व व कृतित्व की धनी ,स्पष्ट वक्ता,ओजस्वी मधुर व शालीनता युक्त भाषण हमेशा प्रेरणा दायीं रहा है।उनका बहुत सी भाषाओ व शास्त्रो की विद्वता थी।
माननीया धार्मिक प्रवृत्ति के थे सभी त्यौहारो को के प्रति बहुत ही आस्था थी और वह उतनी ही सादगी के साथ त्योहारों को मानती थी।उनका रहन सहन उनके व्यक्तित्व में चार चाँद से लगाता था।राजनीति के लंबे सफर में जब भी जो दायित्व मिला उन्होंने एक मिशाल कायम की ओर अच्छे से निभाया।
विदेश मंत्री रहते हुए कितने परिवार को घर वापसी करवाई।उनके विचारों में पल पल राष्ट्र चिंतन रहता था उन्होंने पूर्ण रूप से राष्ट्र को जीवन समर्पित कर जीवन जिया।पर कभी अगर देश के विरोध में कुछ गलत बात कही तो वह चुप नही रहे उन्होंने समय समय पर विरोधियों को उनकी भाषा मे समझाने से भी नही चुके।
राजनीति में राष्ट्रवाद की भावनाओं के साथ कार्य किया।कुशल नेत्री ,कुशल वक्ता एक शक्ति पुन्ज के रूप में जीवन भर मार्गदर्शन करती रही ऐसी महान व्यक्तित्व को खो कर ह्रदय की अनन्त गहराई से उनको कोटि कोटि नमन ,वंदन।
कुछ पंक्तियाँ समर्पित
जाना सभी को है इस संसार से
ये तो निश्चित है पर क्या करना है कैसे जीना हैं।ये आपने सीखा दिया। जियूँ आपकी तरह देश हित मे कूछ ऐसा कर जाऊ जो आपके अधूरे सपनो को पूरा कर जाऊँ।वंदे मातरम।भारत माता की जय।कोटि कोटि नमन।वंदन।
रेखा पंड्या
महिला मोर्चा उपाध्यक्ष
जिला डूंगरपुर

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published.Required fields are marked *

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Wordpress Social Share Plugin powered by Ultimatelysocial
Facebook
Facebook